रणनीति व्यापार

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

Welcome to the Current Affairs Section of Adda247. If you are preparing for Government Job Exams, then it is very important for you to read the Daily Current Affairs. All the important updates based on current affairs are included in this Daily Current Affairs 2022 article.

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

वित्त में, एक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म जिसे ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के रूप में भी जाना जाता है , एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जिसका उपयोग वित्तीय उत्पादों के लिए एक वित्तीय मध्यस्थ के साथ नेटवर्क पर ऑर्डर देने के लिए किया जा सकता है । विभिन्न वित्तीय उत्पादों का व्यापार मंच इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म द्वारा, एक वित्तीय मध्यस्थ के साथ संचार नेटवर्क पर या सीधे व्यापार मंच के प्रतिभागियों या सदस्यों के बीच किया जा सकता है। इसमें स्टॉक , बॉन्ड , मुद्राएं , कमोडिटी , डेरिवेटिव और अन्य जैसे उत्पाद शामिल हैं, जिसमें वित्तीय मध्यस्थ, जैसे दलाल , बाजार निर्माता शामिल हैं, निवेश बैंक या स्टॉक एक्सचेंज । इस तरह के प्लेटफॉर्म इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग को किसी भी स्थान से उपयोगकर्ताओं द्वारा किए जाने की अनुमति देते हैं और पारंपरिक फ्लोर ट्रेडिंग के विपरीत खुले चिल्लाहट और टेलीफोन आधारित ट्रेडिंग का उपयोग करते हैं । कभी-कभी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म शब्द का इस्तेमाल अकेले ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर के संदर्भ में भी किया जाता है।

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म आम तौर पर लाइव बाजार मूल्यों को स्ट्रीम करते हैं, जिस पर उपयोगकर्ता व्यापार कर सकते हैं और अतिरिक्त व्यापारिक उपकरण प्रदान कर सकते हैं, जैसे चार्टिंग पैकेज, समाचार फ़ीड और खाता प्रबंधन कार्य। कुछ प्लेटफॉर्म विशेष रूप से व्यक्तियों को वित्तीय बाजारों तक पहुंच प्राप्त करने की अनुमति देने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं जिन्हें पहले केवल विशेषज्ञ व्यापारिक फर्मों द्वारा ही एक्सेस किया जा सकता था। उन्हें तकनीकी इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म विश्लेषण के आधार पर विशिष्ट रणनीतियों को स्वचालित रूप से व्यापार करने या उच्च आवृत्ति व्यापार करने के लिए भी डिज़ाइन किया जा सकता है ।

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म आमतौर पर मोबाइल के अनुकूल होते हैं और विंडोज, मैक, लिनक्स, आईओएस और एंड्रॉइड के लिए उपलब्ध होते हैं।

'ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म' शब्द का इस्तेमाल आमतौर पर ' ट्रेडिंग सिस्टम ' के साथ भ्रम से बचने के लिए किया जाता है, जो कि वित्तीय सर्किलों के भीतर ऑर्डर निष्पादित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले कंप्यूटर सिस्टम के बजाय अक्सर ट्रेडिंग पद्धति या रणनीति से जुड़ा होता है । [१] इस मामले में प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग एक प्रकार के कंप्यूटिंग सिस्टम या ऑपरेटिंग वातावरण जैसे डेटाबेस या अन्य विशिष्ट सॉफ़्टवेयर के लिए किया जाता है।

लेन-देन पारंपरिक रूप से दलालों या प्रतिपक्षों के बीच मैन्युअल रूप से नियंत्रित किया जाता है। हालाँकि, 1970 के दशक से शुरू होकर, लेन-देन का एक बड़ा हिस्सा इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर चला गया है। इनमें इलेक्ट्रॉनिक संचार नेटवर्क , वैकल्पिक व्यापार प्रणाली , " डार्क पूल " और अन्य शामिल हो सकते हैं । [2]

पहले इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म आमतौर पर स्टॉक एक्सचेंजों से जुड़े थे और दलालों को निजी समर्पित नेटवर्क और डंब टर्मिनलों का उपयोग करके दूरस्थ रूप से ऑर्डर देने की अनुमति देते थे । प्रारंभिक सिस्टम हमेशा लाइव स्ट्रीमिंग मूल्य प्रदान नहीं करते थे और इसके बजाय दलालों या ग्राहकों को एक आदेश इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म देने की अनुमति देते थे जिसकी पुष्टि कुछ समय बाद की जाएगी; इन्हें ' उद्धरण के लिए अनुरोध ' आधारित प्रणालियों के रूप में जाना जाता था ।

ट्रेडिंग सिस्टम लाइव स्ट्रीमिंग कीमतों और ऑर्डर के तत्काल निष्पादन के साथ-साथ अंतर्निहित नेटवर्क के रूप में इंटरनेट का उपयोग करने की अनुमति देने के लिए विकसित हुआ, जिसका अर्थ है कि स्थान बहुत कम प्रासंगिक हो गया। कुछ इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म ने स्क्रिप्टिंग टूल और यहां तक ​​​​कि एपीआई में भी व्यापारियों को स्वचालित या एल्गोरिथम ट्रेडिंग सिस्टम और रोबोट विकसित करने की अनुमति दी है । [ उद्धरण वांछित ]

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के क्लाइंट ग्राफिकल यूजर इंटरफेस का उपयोग विभिन्न ऑर्डर देने के लिए किया जा सकता है और इसे कभी-कभी ट्रेडिंग टर्रेट भी कहा जाता है (हालांकि इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म यह इस शब्द का दुरुपयोग हो सकता है, क्योंकि कुछ व्यापारियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले विशेष पीबीएक्स फोन का उल्लेख करते हैं)।

2001 से 2005 की अवधि के दौरान, ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के विकास और प्रसार ने समर्पित ऑनलाइन ट्रेडिंग पोर्टल्स की स्थापना को देखा, जो एक संस्थान की पेशकश तक सीमित होने के बजाय कई इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के विकल्प के साथ इलेक्ट्रॉनिक ऑनलाइन स्थान थे। [ उद्धरण वांछित ]

Electronic Trading Platform In Hindi

Electronic Trading Platform In Hindi

Table of Contents

electronic trading platform in hindi

आज हम स्टॉक मार्केट के बेहद ही अहम माने जानेवाले ट्रेडिंग स्ट्रक्चर यानि ‘इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म’ जिसे ‘ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफार्म’ के नाम से भी जाना जाता है, उसके बारेंमे विस्तार से चर्चा करेंगे (electronic trading platform in hindi)

Electronic Trading Platform क्या हैं

‘इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म’ जिसे एक अधुनिक टेक्नोलॉजी भी कहा जाता है जिसके जरिये हम बड़ी ही आसानी से स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने का लाभ ले सकते हैं तो चलिए बिना किसी दैरी के इसको पूर्ण विस्तार के साथ समझते हैं

यह एक्सचेंज का ट्रेडिंग प्लेटफार्म हैं

एक बात को अवश्य नोटिस करें की इस टोपिक में हम किसी ब्रोकर्स के ट्रेडिंग प्लेटफार्म या किसी ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर की बात नहीं करेंगे बल्कि आज हम इंडियन स्टॉक मार्केट के ‘Electronic Trading Platform’ की बात करनेवाले हैं

वैसे यदि आप भारतीय शेयर बाजार के शुरुआती ट्रेडिंग प्रक्रिया को समजना चाहते है इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म तो मेरे इस आर्टिकल About Stock Market In Hindi में आप पुराने ट्रेडिंग प्रोसेस को समज सकते है जिनसे आपको इस टोपिक में भी पकड़ इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म मिलेंगी

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म किसे कहतें हैं

तो ‘इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म’ यह एक कंप्यूटरीकृत प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर है जिनके कई प्रकारों और सुविधाओं के आधार पर इनके वर्जन होते है जो पूरी तरह से SEBI के दिशा – निर्देश पर तैयार किया हुआ होता है

साथ ही स्टॉक एक्सचेंज के कन्ट्रोल में प्रसारित यह स्टॉक मार्केट में लिस्टेड हजारों कंपनीयों के स्टॉक्स पर रोज़ाना लाखों – करोड़ों शेयरों का ट्रेडिंग (कारोबार) करनेवाला एक पूरा सिस्टम होता है जिसे ‘इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म’ कहा जाता है

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म कहां उपयोगी हैं ?

यह एक ऐसा ट्रेडिंग सिस्टम एवं सॉफ्टवेयर है जो स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करते निवेशक और ब्रोकिंग व्यापारियों को वितीय मध्यस्थ के माध्यम से व्यापार यानि शेयर ट्रेडिंग करने और उनसे जुड़े खातो की निगरानी करने में मदद करता है

आमतौर पर ट्रेडिंग प्लेटफार्म सिर्फ शेयरों की ट्रेडिंग के लिए ही नहीं बल्कि दूसरे बहोत से उपयोग के लिए है जैसे की; रियल – टाइम रिकॉर्ड देखने, कंपनीयों के स्टॉक चार्जिंग टूल्स, व्यापार जगत के सभी प्रकार के न्यूज़ फीड देखने और स्टॉक ट्रेडिंग से सबंधित सभी प्रकार की सेवाएँ प्रदान करता हैं

स्टॉक मार्केट के निवेश प्लेटफार्म

इसके जरिये बहोत से ट्रेडिंग प्लेटफार्म में निवेश किया जा सकता है जैसे की; स्टॉक, बांड, करेंसी, कमोडिटी, डेरिवेटिव और अन्य कई प्रकार के कारोबार (ट्रेडिंग) कर सकते हैं

वितीय मध्यस्थ के रूप में ब्रोकर्स, निवेश बैंकिंग और स्टॉक एक्सचेंजीस जैसी संस्थाए इस प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म का उपयोग करने की अनुमति देते हैं

ट्रेडिंग प्लेटफार्म एक प्रकार का सोफ्टवेयर उपकरण हैं जिस की मदद से हम बाज़ार की स्थिति को प्रबंधित कर सकते है और साथ ही उन्हें निष्पादित करने के लिए भी किया जाता है

यह ट्रेडिंग प्लेटफार्म स्टॉक मार्केट के शुरुआती निवेशकों के लिए निवेश का एक सरल और सुरक्षित स्थान प्रदान करता है उनके निवेश सेवाओं में स्टॉक्स की लाइव स्ट्रीमिंग और उनके चार्ट के जरिये उनको बेहतर समजने का जरिया हैं

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म की बुनियादी बातें

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म की कुछ बुनियादी बातोँ को समजते है, इनके जरिये शेयरों में ट्रेडिंग की शुरुआत वर्ष 1970 के दशक से मार्केट के कुछ बड़े हिस्सों के द्वारा‘ इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम’ की रचना की यानि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के जरिए ही पहलीबार ‘इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म’ की शुरुआत की थी

भारतीय शेयर बाजार का समयकाल जेसे – जेसे बीतता गया वेसे – वेसे शेयरों इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के ट्रेडिंग सिस्टम में ओर सुधार और विकास होता गया, एक दिन ऐसा भी आया जब कम्प्यूटर के माध्यम से इंटरनेट का उपयोग करके स्टॉक ट्रेडिंग सिस्टम को कीमतों की लाइव स्ट्रीमिंग और ऑर्डर के तत्काल निष्पादन के साथ – साथ अंतर्निहित नेटवर्क के रूप में इंटरनेट का प्रयोग किया जाने लगा

इनकी मदद से कही भी ट्रेडिंग कर सकते हैं

स्टॉक मार्केट के ट्रेडर्स इस ट्रेडिंग प्लेटफार्म की सेवाओं का कही भी लाभ ले सकते है यानि भारतीय नागरिक होने पर ट्रेडर अपनी ट्रेडिंग को दूसरे देश में भी कर सकते है फिर चाहे वो खुद ट्रेड करे या अपने ब्रोकर के जरिये ट्रेडिंग करे

स्टॉक ट्रेडिंग के इन प्लेटफार्म की मदद से दूर जगहों पर रहते हुए भी किया जाने लगा, इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म अपनी विशेष सेवाओं में Script Tool जिसकी मदद से निवेशक इसका इस्तेमाल अपनी खुदकी ट्रेडिंग के लिए करे और वो भी बिना किसी ब्रोकर के जिसे ‘एल्गोरिथम ट्रेडिंग सिस्टम’ कहा जाता है

इसके विकास में वर्ष 2001 से लेकर वर्ष 2005 में ट्रेडिंग प्लेटफार्म का विकास और प्रसार ने समग्र ऑनलाइन ट्रेडिंग पोर्टल्स की स्थापना को देखा और इसे किसी एक संस्था तक सीमीत होने के बजाय इसको एक पूर्णरूप ‘इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफार्म’ उभर कर आया है जिसके विकास की गति और भी स्पीड से चालू हैं

Forex Trading को लेकर RBI से बड़ा अपडेट! 34 फॉरेक्स ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के नामों की लिस्ट हुई जारी, इनपर न करें ट्रेड

रिजर्व बैंक ने आज 34 ऐसे ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स की लिस्ट जारी की है जो बिना रिजर्व बैंक की मंजूरी के ट्रेडिंग करा रहे हैं. रिजर्व बैंक ने कहा है कि ऐसे प्लेटफॉर्म फॉरेक्स एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट या फिर इलेट्रॉनिक प्लेटफॉर्म ट्रेडिंग से जुड़े नियमों इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के तहत रिजर्व बैंक के पास रजिस्टर्ड नहीं है.

रिजर्व बैंक ने फॉरेक्स ट्रेडिंग के जरिए मुनाफा कराने वालों के बारे में लोगों को आगाह किया है. रिजर्व बैंक ने आज 34 ऐसे ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स की लिस्ट जारी की है जो बिना रिजर्व बैंक की मंजूरी के ट्रेडिंग करा रहे हैं. रिजर्व बैंक ने कहा है कि ऐसे प्लेटफॉर्म फॉरेक्स एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट या फिर इलेट्रॉनिक प्लेटफॉर्म ट्रेडिंग से जुड़े नियमों के तहत रिजर्व बैंक के पास रजिस्टर्ड नहीं है. रिजर्व बैंक के मुताबिक ये लिस्ट अभी के हिसाब से और इसमें अगर शिकायतें आएंगी तो जांच के बाद लिस्ट की संख्या बढ़ भी सकती है. इसका मतलब ये भी नहीं है कि जिन प्लेटफॉर्म के नाम इस लिस्ट में नहीं हैं वो ऑथराइज्ड ही हैं. ऑथराइज्ड स्टेटस जांचने के लिए रिजर्व बैंक की वेबसाइट पर मुहैया ऑथराइज्ड लोगों और ऑथराइज्ड इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स की लिस्ट से मिलान किया जा सकता है.

रिजर्व बैंक ने आगाह किया है कि केवल अधिकृत संस्थाओं से ही फॉरेक्स सौदे किए जा सकते हैं और केवल उसी मद में किए जा सकते हैं जिनकी नियमों के तहत इजाजत है. जिन फॉरेक्स सौदों की इजाजत है वो केवल रिजर्व बैंक से ऑथराइज्ड ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स से ही होना चाहिए. या फिर BSE, NSE जैसे मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज से किए जा सकते हैं. ऐसे में लोगों को रिजर्व बैंक ने आगाह किया है कि वो अनाधिकृत प्लेटफॉर्म्स से फॉरेक्स के सौदे न करें. अगर कोई अनाधिकृत सौदे करेगा तो फॉरेक्स एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट (FEMA) नियमों के तहत कार्रवाई के लिए जिम्मेदार होगा.

अगर आप भी फॉरेक्स ट्रेडिंग में दिलचस्पी रखते हैं तो आपने भी Forex Trading के जरिए रातों-रात अमीर बनने का सपना दिखाने वाले एडवर्टीज़मेंट देखे होंगे. ऐसे विज्ञापन अकसर महंगाई का सौदा होते हैं. ये फॉरेक्स ट्रेडिंग ऐप्स निवेशकों को पहली बार ट्रेड के लिए फ़्री कैश या फ्री ट्रेडिंग कोर्स जैसे ऑफर देते हैं. खुद को क्रेडिबल दिखाने के लिए बड़े-बड़े दावे भी करने से पीछे नहीं हटते हैं. आरबीआई काफी वक्त से इनके खिलाफ लोगों को जागरूक कर रहा है.

आरबीआई इसके पहले भी कई ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स के खिलाफ लोगों को आगाह कर चुकी है. इनमें से OctaFx, OlympTrade, Alpari, Forex.com, Ava Trade, FBS, I-Forex, Binomo.com, IQ Option, TP Global Forex जैसे प्लेटफॉर्म पर फॉरेक्स ट्रेडिंग रिजर्व बैंक नियमों के तहत कानूनन अपराध की श्रेणी में आता है. ये प्लेटफॉर्म्स रिजर्व बैंक या सेबी में से किसी के पास इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म भी रजिस्टर्ड नहीं हैं.

रबर बोर्ड का इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म ‘mRub’ लाइव होगा

रबर बोर्ड का इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म 'mRub' लाइव होगा |_50.1

रबर बोर्ड द्वारा प्रवर्तित इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म mRube 8 जून से लाइव हो जाएगा। अहमदाबाद स्थित आई-सोर्सिंग टेक्नोलॉजीज प्रौद्योगिकी भागीदार है। mRub एक साधारण वन-टाइम पंजीकरण का अनुसरण करता है। केएन राघवन, कार्यकारी निदेशक, रबर प्रोड्यूसर सोसाइटी और अन्य उद्योग प्रतिनिधियों की उपस्थिति में एक समारोह में इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म के बीटा संस्करण को लॉन्च करेंगे।

प्रमुख बिंदु:

  • रबर के लिए ई-मार्केट रबर मार्केटिंग सिस्टम में गेम-चेंजर साबित होगा। यद्यपि रबर व्यापार में उच्च-स्तरीय विपणन दक्षता का एक सहज लाभ होता है, उपभोक्ता क्षेत्र की बदलती आवश्यकताओं के साथ इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म व्यापार प्रणाली उन्नत नहीं हुई है।
  • रबर बाजार एक मनोरंजन को फिर से एक रबर विज्ञापन और विपणन प्रणाली में बदल देगा।
  • हालांकि रबर वाणिज्य में प्रभावशीलता को बढ़ावा देने के अत्यधिक चरण का अंतर्निहित लाभ है, लेकिन संरक्षक क्षेत्र की बदलती जरूरतों को पूरा करने के लिए खरीद और बिक्री प्रणाली में सुधार नहीं हुआ है।
  • ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म को उच्च पारदर्शिता और बाजार दृश्यता लाकर प्रचलित खरीद और बिक्री प्रणाली को पूर्ण करने के बारे में सोचा जा रहा है।
  • ई-कॉमर्स से दूर-दराज के स्थानों में भी नए विक्रेताओं/संरक्षकों तक पहुंच कर मौजूदा रबर विक्रेताओं, प्रोसेसरों और उत्पादकों के लिए अतिरिक्त उद्यम करने की उम्मीद है।

रबर बोर्ड के बारे में:

रबड़ बोर्ड देश में रबड़ उद्योग के समग्र विकास के लिए रबड़ अधिनियम 1947 के तहत भारत सरकार द्वारा गठित एक वैधानिक निकाय है। प्रधान कार्यालय कोट्टायम, केरल में है; रबर बोर्ड की स्थापना: 18 अप्रैल 1947 में हुई थी ।

रबर बोर्ड का इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म 'mRub' लाइव होगा |_60.1

TOPICS:

  • भगत सिंह के नाम .
  • भारत का पहला सफ�.
  • एहतियाती खुराक.
  • श्रीनगर में खु�.
  • 'दूर से नमस्ते' �.
  • फोरेंसिक साक्ष.
  • राजीव लक्ष्मण करंदीकर को राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग का अध्यक्ष नामित किया गया
  • विजेंदर शर्मा इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट ऑफ इंडिया इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के अध्यक्ष चुने गए
  • 5 दिसंबर से शुरू होगा तीसरा ब्लाइंड T20 World Cup 2022
  • संजय कुमार को स्कूल शिक्षा विभाग का सचिव नियुक्त किया गया
  • 3 भारतीय मूल की महिला वैज्ञानिक ऑस्ट्रेलिया की “एसटीईएम की सुपरस्टार” में शामिल
  • नवंबर में GST कलेक्शन घटकर 1.46 लाख करोड़ रुपये हुआ
  • '112' मोबाइल ऐप मे�.
  • '15 वें प्रवासी भ�.
  • '2002 गोधरा दंगों' �.
  • 'APART' के तहत राइस �.
  • 'AYUSH' को अंग्रेजी .
  • 'BHIM' ऐप यूज़र्स अ�.

Leave a comment

Cancel reply

Recent Posts

  • राजीव लक्ष्मण करंदीकर को राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग का अध्यक्ष नामित किया गया
  • विजेंदर शर्मा इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष चुने गए
  • 5 दिसंबर से शुरू होगा तीसरा ब्लाइंड T20 World Cup 2022
  • संजय कुमार को स्कूल शिक्षा विभाग का सचिव नियुक्त किया गया
  • 3 भारतीय मूल की महिला वैज्ञानिक ऑस्ट्रेलिया की “एसटीईएम की सुपरस्टार” में शामिल
  • नवंबर में GST कलेक्शन घटकर 1.46 लाख करोड़ रुपये हुआ
  • आरबीआई ने शहरी सहकारी बैंक के लिए 4 स्तरीय नियामक मानदंडों को लागू किया
  • ‘चिपको आंदोलन’ पर आधारित किताब को कमलादेवी चट्टोपाध्याय एनआईएफ पुरस्कार
  • विजय हजारे ट्रॉफी फाइनल: सौराष्ट्र ने महाराष्ट्र को 5 विकेट से हराया
  • World Disabilities Day 2022: जानें इतिहास, थीम और महत्व

IMPORTANT EXAMS

Our Other Websites

Most Important Exams

  • SBI PO Preparation
  • SSC JE Preparation

Exams Preparation

  • BANKING & INSURANCE
  • TEACHING

Entrance Exams

  • GATE & ESE
  • CUET Registration

Quick Links

Test Series

रबर बोर्ड का इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म 'mRub' लाइव होगा |_70.1


Welcome to the Current Affairs Section of Adda247. If you are preparing for Government Job Exams, then it is very important for you to read the Daily Current Affairs. All the important updates based on current affairs are included in this Daily Current Affairs 2022 article.

रेटिंग: 4.69
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 234
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *