मुख्य क्रिप्टोकरेंसी

ETF क्या है?

ETF क्या है?
एक्सचेंज ट्रेडेड फंड में निवेश करने से कई फायदे मिलते हैं। ETFs में निवेश के कुछ मुख्य लाभों में शामिल हैं-

ऑटो उद्योग ईटीएफ क्या है? हिंदी में [What is Auto Industry ETF ? In Hindi ]

ETF क्या है इन्वेस्ट कैसे करे | etf meaning in hindi

ETF (Exchange Traded Fund) होता क्या है (etf meaning in hindi) और क्या आपको इसमें इन्वेस्ट करना चाहिए। तो आज हम जानेंगे ETF के बारे में बहुत ही सरल भाषा में सब कुछ। बहुत लोगो को शेयर मार्केट में रिस्क नहीं लेना चाहते है उसके लिए है ये फण्ड।

ETF (Exchange Traded Fund) क्या है (etf meaning in hindi):-

Mutual Fund में कंपनी को लोग पैसा देता है और उसका फंड मैनेजर अलग अलग शेयर में निवेश करता है। लेकिन Index Fund में लोगों का पैसा ETF क्या है? Direct Nifty और Sensex पर पैसा लगा देते हैं, इसमें फंड मैनेजर अलग अलग करके शेयर में निबेश की जरुरत नहीं पड़ती। एक ही index पर निवेश करते है। Nifty ETF क्या है? यानी देश का टॉप 50 शेयर्स का बास्केट और Sensex 30 कंपनी का टोकरी होता हैं। Index fund आप म्यूच्यूअल फण्ड कंपनी से खरीद सकते है।

ETF में कैसे इन्वेस्ट करे:-

ETF में इन्वेस्ट करने के लिए आपके पास Demat Account होना जरूरी हैं। आप डायरेक्ट शेयर मार्केट से ही ETFको खरीद सकते है। बहुत सारे ऐसे ETF है जहा पर आप खरीद सकते है। उनमे से है- Niftybees, HDFC Sensex ETF, Kotak PSU Bank ETF etc।

ETF क्या है इन्वेस्ट कैसे करे etf meaning in hindi

शेयर मार्केट में ETF कैसे आता है:-

जब भी कंपनी को शेयर मार्केट में ETF लाना होता है। तो कंपनी जिस भी सेक्टर, जितने पैसा का लाना है उस सेक्टर का उतने पैसा का शेयर खरीद लेता है। फिर मार्केट में उस सेक्टर का ETF लोगों के लिए Issue होते हैं। उसके बाद बाज़ार में उसका खरीद ETF क्या है? बेच होते रहते हैं। लेकिन ETF में जितना पैसा का Issue होता है उससे ज्यादा कंपनी और आकार बड़ा नहीं कर सकते।

Advantage क्या है ETF का:-

  • किसी भी समय खरीदना:- म्यूच्यूअल फण्ड में एक दिन का NAV पे ही आप खरीद सकते हो। लेकिन ETF शेयर मार्केट में लिस्टेड होने के कारण स्टॉक की तरह किसी भी टाइम खरीद सकते हो। जैसे जैसे नीचे ऊपर होता है आप खरीद बेच कर सकते हैं।
  • सेक्टर का फ़ायदा:- ETF में आप किसी भी अलग अलग सेक्टर पर आप इन्वेस्ट कर सकते हैं। इससे आपको पोर्टफोलियो को Diversification करने में मदद मिलता हैं।

क्या ETF में इन्वेस्ट करना सही रहेगा:-

ETF में थोड़ा Index fund से शुल्क कम होती है। लेकिन अब बहुत सारे कम शुल्क Index fund आ गए हैं लगभग दोनों का बराबर होते हैं। यदि आपको किसी सेक्टर के हिसाब से खरीदना चाहते हो तो आप ETF में खरीदारी कर सकते हैं। इसमें आपको थोड़ा रिस्क कम होता हैं। आपको ETF क्या है? यदि लंबे समय के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हो तो आप ETF के साथ जा सकते हैं।

Auto Industry ETF क्या है?

Auto Industry ETF एक एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड है जो ऑटो उद्योगों के शेयरों की कीमतों से अपना मूल्य प्राप्त करता है। सभी प्रकार की ऑटो कंपनियां शामिल हैं जैसे ऑटो निर्माता और ऑटो सहायक।

ईटीएफ निवेश उत्पाद हैं जो किसी ETF क्या है? विशेष क्षेत्र के शेयरों में निवेश की पेशकश करते हैं। ईटीएफ विभिन्न शेयरों में जोखिमों में विविधता लाते हैं और खुदरा निवेशकों को एक उद्योग में निवेश करने का अवसर प्रदान करते हैं।

ऑटो उद्योग ईटीएफ के अंतर्निहित समूह में सभी प्रकार के ऑटो घटकों और ऑटो-पुर्ज़ों के निर्माता शामिल हैं। ईटीएफ में वे कंपनियां भी शामिल हो सकती हैं जो अनुसंधान और विकास, सामग्री का वितरण और ऑटोमोबाइल और ऑटोमोबाइल उपकरणों की बिक्री करती हैं।

ऑटोमोटिव उद्योग ईटीएफ में एक ऐसा समूह होता है जिसमें सभी ऑटोमोबाइल-संबंधित उत्पादों के निर्माता शामिल होते हैं, जिसमें भागों और श्रम शामिल हैं, लेकिन इन्हीं तक सीमित नहीं है। संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया भर में ऑटोमोटिव कंपनियों की संख्या के कारण, इनमें से कई एक्सचेंज-ट्रेडेड फंडों की वैश्विक पहुंच हो सकती है। उद्योग में एशिया और यूरोप दोनों की मजबूत बाजार उपस्थिति है।

What is ETF in Hindi | ईटीएफ क्या है? | ETF क्या है? Types of ETF in Hindi | ETF के बारें में सम्पूर्ण जानकारी

What is ETF in Hindi | ईटीएफ क्या है? | Types of ETF in Hindi | ETF के बारें में सम्पूर्ण जानकारी

ETF in Hindi: अगर आप निवेश की दुनिया में नए है तो आपके लिए यह जानना जरूरी है कि ईटीएफ क्या है? (What is ETF in Hindi) और ईटीएफ के प्रकार (Types of ETF in Hindi) क्या है? यह लेख ETF के बारें में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेगा।

ETF in Hindi: निवेश के लिए म्युचुअल फंड (Mutual Fund) और स्टॉक (Stock) दो सबसे पसंदीदा विकल्प हैं। अगर आप एक निवेशक हैं, तो निश्चित रूप से आपको अपनी निवेश आवश्यकताओं के लिए दो में से किसी एक को चुनने में दुविधा का सामना करना पड़ा होगा। म्यूचुअल फंड डायवर्सिफिकेशन का फायदा प्रदान करते हैं, जबकि स्टॉक ट्रेडिंग अपने आप में आसान है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि क्या होगा अगर कोई ऐसा प्रोडक्ट मौजूद हो जो आपको दोनों में निवेश करने का विकल्प प्रदान कर सके?

Gold ETF के बारे में जानकारी​​​

Gold ETF: म्यूचुअल फंड उद्योग संगठन की रिपोर्ट के अनुसार पिछले महीने सोने में निवेश करनेवाले खाताधारकों की संख्या में वृद्धि हुई है। लेकिन साथ ही निवेशकों द्वारा निकासी भी की जा रही है। देखा गया है कि जुलाई के महीने में सोने में निवेश के लिए निवेशकों का रुझान कम हुआ है। ईटीएफ गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड के मुताबिक 2022 में जुलाई माह के दौरान ₹457 करोड़ निकाले गए हैं। लेकिन वहीं इसी महीने ईटीएफ फोलियो की संख्या में 37,500 की बढ़त भी हुई है। फोलियो की कुल संख्या अब 46.43 लाख हो गई है। इस लेख में जानने की कोशिश करेंगे कि निवेशकों ने निकासी किन कारणों से की होगी।

दरअसल गोल्ड ईटीएफ एक अच्छा विकल्प है यदि आप सोने में निवेश करना चाहते हों। यह म्यूचुअल फंड का हिस्सा है और इसकी खरीद यूनिट के हिसाब से की जाती है। इसमें शेयर की तरह ही कारोबार होता है। यूनिट बेचने पर निवेशक को सोने के मूल्य के बराबर रकम मिलती है, सोना नहीं मिलता। यह एक ग्राम सोने के जेवर खरीदने से सस्ता और अच्छा विकल्प है। एक ग्राम के जेवर, एक ग्राम सोने के यूनिट से कहीं अधिक महंगे होते हैं क्योंकि उस पर मेकिंग चार्ज का भी अतिरिक्त भुगतान ग्राहक को करना पड़ता है। गोल्ड ईटीएफ के निवेश में ऐसा कोई अतिरिक्त चार्ज भी नहीं है और इसमें चोरी का भी कोई डर नहीं है।

आखिर निवेशकों ने क्यों की निकासी

ऐसा माना जा रहा है कि

  • शेयरों में तेजी होने के कारण उसका लाभ लेने की दृष्टि से निकासी की जा रही है।
  • ब्याज की दरों में वृद्धि होने के कारण पीली धातुओं की कीमतों में कमी आई है जिसके कारण भी ईटीएफ ETF क्या है? से निकासी की गई।
  • सोने की मांग और आपूर्ति पर रुपये में गिरावट का भी असर पड़ा है।
  • गोल्ड ईटीएफ की ओर निवेशकों का रुझान कम होने का कारण सोने की कम कीमत भी माना जा रहा है और इसके कारण निकासी की गई ETF क्या है? है।

निवेशकों को सलाह - जल्दबाजी में निर्णय न लें

“निवेशकों को घबराहट में या जल्दबाजी में गोल्ड ईटीएफ से निकासी नहीं करनी चाहिए,” यह कहना है आईआईएफएल के उपाध्यक्ष अनुज गुप्ता का। गुप्ता के अनुसार शेयरों में तेजी का लाभ लेने के लिए निकासी अभी नहीं करनी चाहिए। उन्हें उम्मीद है कि रूस-यूक्रेन के संकट और चीन-ताइवान के तनाव को देखते हुए सोने की कीमतों में उछाल आ सकता है। वहीं भारत में भी त्योहारों का समय आने वाला है। ऐसे में गोल्ड ईटीएफ में यदि निवेश किया जाए और यह निवेश बनाए रखा जाए तो यह सौदा मुनाफे वाला हो सकता है।

गोल्ड ईटीएफ में ₹20,038 करोड़ का निवेश है और ईएलएसएस में ₹1.47910 करोड़ का निवेश ETF क्या है? है। वहीं मल्टी कैप फंड में ₹59,303 करोड़ और मिड कैप फंड में ₹168,438 करोड़ का निवेश है। अगर लार्ज कैप फंड में कुल निवेश की बात की जाए तो यह ₹231,851 करोड़ है तो स्मॉल कैप फंड में ₹113,332 करोड़ और फोकस फंड में ₹99,933 करोड़ का निवेश है।

ETF in Hindi – फायदे

खरीदने बेचने में आसान. क्योंकि स्टॉक एक्सचेंज इंडेक्स (सेंसेक्स या निफ्टी आदि) में शामिल शेयर अलग अलग उधोगों से शामिल किये जाते हैं, इंडेक्स ETF में विविधिता आ जाती है जिससे निवेश के रिस्क में कमी हो जाती है. ETF सुविधाजनक हैं, आप सेंसेक्स के तीस और निफ्टी के पचास शेयरों में एक साथ निवेश कर सकते हैं. उसी प्रकार आप ETF क्या है? वास्तविक गोल्ड या सोना ना खरीद कर गोल्ड ETF खरीद सकते हैं जो की अधिक सुविधाजनक है. ETF में कम राशि से निवेश की जा सकती है. आप ETF में SIP भी ले सकते हैं.

जिन लोगों को शेयर बाजार की ज्यादा जानकारी नहीं है या शेयर बाजार में अधिक रिस्क लेने से बचना चाहते हैं उनके लिए म्यूचुअल फंड और ETF में निवेश करना आसन भी है कम रिस्क वाला भी. ETF आपके निवेश को Diversity यानि विविधता प्रदान करता है.

यहाँ हमने ईटीएफ क्या है ETF in Hindi सरल भाषा में समझाने की कोशिश की है फिर भी यदि आपका इससे सम्बंधित कोई प्रश्न है तो टिप्पणी में पूछ सकते हैं, मैं जवाब देने की कोशिश करूंगा.

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 854
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *